//

माथे पर तिलक लगाने का कारण और फायदे जानिये

please Like & follow us for more news

 

 

हिन्दू धर्म में हर पूजा पाठ के बाद तिलक लगाने का प्रचलन है पर मन में यह सवाल उठना स्वाभाविक है कि आखिर टीका लगाने से फायदा क्या है? क्या यह महज दूसरों के सामने दिखावे के मकसद से किया जाता है या फिर तिलक धारण का कुछ वैज्ञानिक आधार भी है।  हिन्दू परम्परा में मस्तक पर तिलक लगाना शुभ माना जाता है इसे सात्विक होने का प्रतीक माना जाता है।

उत्तर भारत में तिलक आरती के साथ आदर, सत्कार और स्वागत कर तिलक लगाया जाता है।थे पर तिलक लगाने का कारण और फायदे जानिये.

तिलक के प्रकार

तिलक कई प्रकार का होता है जिसमें मृतिका, भस्म, चंदन, रोली, सिंदूर, गोपी आदि सम्मिलित हैं। सनातन धर्म में शैव, शाक्त, वैष्णव और अन्य मतों के अलग-अलग तिलक होते हैं। चंदन का तिलक लगाने से पापों का नाश होता है, व्यक्ति संकटों से बचता है, उस पर लक्ष्मी की कृपा हमेशा बनी रहती है, ज्ञानतंतु संयमित व सक्रिय रहते हैं।

तिलक लगाने के लाभ

आज्ञा चक्र पर तिलक करने से आज्ञाचक्र को नियमित रुप से उत्तेजना मिलती रहती है। इससे सजग रुप में हम भले ही उससे जागरण के प्रति अनभिज्ञ रहें, पर अनावरण का वह क्रम हनवरत चलता रहता है। मनुष्य उर्जावान, तनावमुक्त, दूरदर्शी, विवेकशील होता है। उसकी समझ अन्य लोगों की तुलना में अधिक होती है। दिमाग में सेराटोनिन और बीटा एंडोर्फिन का स्राव संतुलित तरीके से होता है, जिससे उदासी दूर होती है और मन में उत्साह जागता है। यह उत्साह लोगों को अच्छे कामों में लगाता है।

loading...